WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.15 PM
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.16 PM (1)
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.16 PM (2)
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.16 PM
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.17 PM (1)
IMG_20240301_142817
IMG_20240301_142817
IMG_20240301_142817
previous arrow
next arrow
देश-विदेशराजनेतिक

BJP में वापसी…? NDA की बैठक में पहुंचे चिराग पासवान, बिहार चुनाव के समय हुए थे अलग

शनिवार को दिल्ली में बीजेपी पार्लियामेंट्री बोर्ड की बैठक में एनडीए के उपराष्ट्रपति उम्मीदवार के तौर पर पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ के नाम की घोषणा की गयी।

लोक जनशक्ति पार्टी (राम विलास) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान संसद भवन में हो रही एनडीए की बैठक में पहुंचे। इसके बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि जमुई सांसद की भारतीय जनता पार्टी में वापसी हो सकती है। हालांकि, चिराग ने इस बारे में सफाई देते हुए कहा कि मैं राष्ट्रपति चुनाव की तैयारी के लिए एनडीए की बैठक में शामिल हुआ था क्योंकि मैं द्रौपदी मुर्मू का समर्थन कर रहा हूं। इसका मतलब यह नहीं है कि मैं एनडीए का हिस्सा हूं।

संसद का मॉनसून सत्र शुरू होने से पहले इस पर चर्चा के लिए रविवार (17 जुलाई 2022) को केंद्र सरकार ने सर्वदलीय बैठक बुलाई। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में यह बैठक हो रही है। इस बैठक में शामिल होने के लिए लोजपा नेता चिराग पासवान भी संसद भवन पहुंचे। इससे पहले राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए उम्मीदवार द्रौपद मुर्मू के समर्थन के लिए राजनाथ सिंह ने चिराग पासवान से फोन पर बात की थी। इस दौरान उन्होंने राष्ट्रपति चुनाव को लेकर चिराग पासवान से एनडीए की उम्मीदवार को समर्थन देने का आग्रह किया था।

एनडीए गठबंधन से चले गए थे बाहर: संसद में आयोजित बैठक में चिराग की उपस्थिति इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि वह बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जनता दल (यूनाइटेड) से विरोध के चलते एनडीए गठबंधन से बाहर चले गए थे। हालांकि, चिराग पासवान की पार्टी भी बाद में विभाजित हो गई थी। उनके चाचा पशुपति कुमार पारस पांच सांसदों के साथ अलग हो गए थे। पशुपति कुमार की पार्टी को लोकसभा में असली लोजपा के रूप में मान्यता मिली, और उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व वाली सरकार में मंत्री पद की शपथ ली।

विपक्ष गैर मुद्दों को मुद्दा बनाने की कोशिश कर रहा: गौरतलब है कि संसद के सुचारू रूप से संचालन के लिए प्रधानमंत्री द्वारा ऑल पार्टी मीट आयोजित करने की प्रथा रही है। संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने बैठक में शामिल सभी पार्टियों से संसद के सुचारू संचालन में सहयोग करने का आग्रह किया। बैठक के बाद संवाददाताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि विपक्ष गैर मुद्दों को मुद्दा बनाने की कोशिश कर रहा है, क्योंकि उसके पास सरकार के खिलाफ कुछ भी नहीं है।

शरद पवार के आवास पर विपक्ष की सर्वदलीय बैठक: दूसरी ओर, एनसीपी प्रमुख शरद पवार के दिल्ली स्थित आवास पर उप-राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार पर फैसला लेने के लिए विपक्षी दलों के नेताओं की 17 जुलाई को बुलाई गई है। बैठक में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, माकपा नेता सीताराम येचुरी, शिवसेना नेता संजय राउत और अन्य कई नेता मौजूद हैं। सरकार द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक के बाद विपक्ष ने यह मीटिंग बुलाई है।

इस बीच, कांग्रेस ने अन्य विपक्षी दलों को पहले ही सूचित कर दिया है कि प्रमुख विपक्षी दल- कांग्रेस अपनी पार्टी से उम्मीदवार नहीं उतारेगी। कांग्रेस का कहना है कि वह फिलहाल पार्टी से कैंडीडेट को लेकर विचार नहीं कर रही है।

Related Articles

Back to top button