WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.15 PM
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.16 PM (1)
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.16 PM (2)
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.16 PM
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.17 PM (1)
IMG_20240301_142817
IMG_20240301_142817
IMG_20240301_142817
previous arrow
next arrow
उत्तरप्रदेश
Trending

महारैली:पुरानी पेंशन बहाली के लिए प्रदर्शन

रामलीला मैदान में कई राज्यों के शिक्षक और कर्मचारी जुटे

नई दिल्ली, का.सं.। रामलीला मैदान में रविवार को सरकारी कर्मचारियों ने पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर हुंकार भरी। नेशनल मूवमेंट फॉर न्यू पेंशन स्कीम (एनएमओपीएस) मंच के तत्वावधान में पेंशन शंखनाद महारैली का आयोजन हुआ।इसमें अलग-अलग राज्यों के हजारों की तादाद में शिक्षक सहित दूसरे वर्ग के कर्मचारी शामिल हुए। कर्मचारियों को समर्थन देने के लिए अलग-अलग राजनीतिक दलों के नेता भी पहुंचे।

हुड्डा बोले- सरकार बनते ही लागू करेंगे

महारैली को संबोधित करते हुए हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि हरियाणा में कांग्रेस का यह फैसला है कि सरकार बनते ही पुरानी पेंशन लागू करेंगे।

केजरीवाल वादे पूरे करेंगे

आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने कहा कि दिल्ली की विधानसभा में पुरानी पेंशन योजना की बहाली की गई। पंजाब के अंदर वहां की कैबिनेट ने पुरानी पेंशन को मंजूरी दी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जो वायदा किया है, उसको पूरा करेंगे। सीएम गारंटी देते हैं, झूठे वायदा नहीं करते हैं। उधर, भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि किसान वर्ग इस लड़ाई में आपके साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलेगा।

सशस्त्रत्त् बल कर्मियों के लिए नई पेंशन योजना का विरोध

कांग्रेस ने सशस्त्रत्त् बल कर्मियों के लिए हताहत पेंशन और विकलांगता मुआवजा के लिए पात्रता नियम 2023 का विरोध किया है। पार्टी ने इस पेंशन योजना को अवैध करार दिया है। पार्टी का कहना है कि सेना ने इस योजना का विरोध किया है। इसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दे सकते हैं। कांग्रेस के पूर्व सैनिक विभाग के अध्यक्ष कर्नल रोहित चौधरी ने कहा कि यह योजना गैरकानूनी है और वेटरन ऑर्गेनाइजेशन इसका पुरजोर विरोध करती है।

मांग पूरी करने वालों को ही वोट एनएमओपीएस

महारैली में संबोधित करते हुए एनएमओपीएस के राष्ट्रीय अध्यक्ष विजय कुमार बंधु ने पुरानी पेंशन बहाल करने वाले को ही वोट देने का ऐलान किया। देश के जब पांच राज्य पुरानी पेंशन को बहाल कर सकते हैं तो केंद्र सरकार इसे देशभर में लागू क्यों नहीं करती है। अगर केंद्र सरकार ने हमारी मांग नहीं मानी तो आगामी तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव के बाद जंतर-मंतर पर फिर विरोध प्रदर्शन दर्ज कराएंगे। हम हक लेकर ही रहेंगे।

हम सरकारी कर्मचारियों की पुरानी पेंशन मांग का समर्थन करते हैं। नई पेंशन योजना कर्मचारियों के साथ अन्याय है। हमने पंजाब में इसे लागू किया है और दिल्ली कर्मचारियों पर लागू करने के लिएकेंद्र को लिखा है। कुछ गैर बीजेपी शासित सरकारों ने अपने राज्यों में पुरानी पेंशन योजना को लागू किया है।

-अरविंद केजरीवाल, मुख्यमंत्री, दिल्ली

छात्रवृत्ति के लिए प्रयाग से भी रिकॉर्ड आवेदन

राष्ट्रीय आय एवं योग्यता आधारित छात्रवृत्ति योजना परीक्षा का हाल 

2024-25 सत्र के लिए आठवीं के रिकॉर्ड 185762 विद्यार्थियों ने भरा है फॉर्म

03 जिलों से सर्वाधिक छात्र-छात्राओं ने किया है आवेदन

प्रयागराज, प्रमुख संवाददाता। राजकीय, सहायता प्राप्त एवं परिषदीय स्कूलों में अध्ययनरत कक्षा आठ के विद्यार्थियों के लिए पांच नवंबर को प्रस्तावित राष्ट्रीय आय एवं योग्यता आधारित छात्रवृत्ति योजना परीक्षा 2024-25 के लिए प्रदेश में इस साल रिकॉर्ड 1,85,762 आवेदन मिले हैं। शिक्षा मंत्रालय की ओर से यूपी के लिए निर्धारित 15,143 सीटों के सापेक्ष बेसिक शिक्षा विभाग ने इस साल 2,27,145 आवेदन का लक्ष्य रखा गया था ताकि कोई सीट खाली न जाए। वैसे तो आवेदकों की संख्या लक्ष्य से कम है लेकिन यह भी रिकॉर्ड है कि इतने अधिक आवेदन इससे पहले कभी नहीं हुए।खास बात यह है कि अलीगढ़, प्रयागराज और जौनपुर के बच्चों ने सर्वाधिक उत्साह दिखाया है। सफल छात्र-छात्राओं को कक्षा नौ से 12 तक प्रति माह एक हजार या प्रतिवर्ष 12 हजार रुपये पढ़ाई के लिए मिलेंगे। पिछले साल काफी प्रयास के बाद पूरे प्रदेश से 1,79,971 छात्र-छात्राओं ने आवेदन किया था। इनमें से 1,45,702 बच्चे परीक्षा में शामिल हुए और 14090 ही सफल हो सके थे। यूपी के लिए निर्धारित सीट 15,143 में से 1053 खाली रह गई थी। परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय की ओर से पांच नवंबर को प्रत्येक जिले में परीक्षा कराई जाएगी।

अलीगढ़ से 11221, श्रावस्ती से मात्र 521 आवेदन

इस प्रतिष्ठित परीक्षा के लिए अलीगढ़ से सर्वाधिक 11221 बच्चों ने आवेदन किया है। 8701 आवेदनों के साथ प्रयागराज दूसरे जबकि जौनपुर से 5886 बच्चों ने फॉर्म भरा है। अयोध्या से 5540, कौशाम्बी 5377, गाजीपुर 4745, बरेली 4713 व वाराणसी से 4009 विद्यार्थियों ने आवेदन किया है। सबसे कम 521 आवेदन श्रावस्ती से मिले हैं। हापुड़ 635, ललितपुर 645, बलरामपुर 662, चित्रकूट 684, मथुरा 685, जालौन से 764, हाथरस 766, बागपत 835, झांसी 860, महोबा 872, गौतमबुद्धनगर 932, संभल 954 व शामली से 975 बच्चों ने फॉर्म भरा था।

बीवोक सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट का कटऑफ जारी 

प्रयागराज। इलाहाबाद विश्वविद्यालय के मौजूदा सत्र में प्रवेश के लिए रविवार को प्रोफेशनल पाठ्यक्रम का नया कटऑफ जारी किया गया। प्रवेश प्रकोष्ठ के निदेशक प्रो. जेके पति के मुताबिक बीवोक सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट में अनारक्षित वर्ग के 327 या इससे अधिक, ओबीसी वर्ग के 70, एससी वर्ग के 45, एसटी वर्ग के 50, ईडब्ल्यूएस के 150 या इससे अधिक अंक पाने वाले अभ्यर्थी सोमवार से ऑनलाइन काउंसिलिंग में शामिल हो सकेंगे।

फैसला:समूह ‘ग’ भर्तियों में एजेंसियां बदलेंगी 

लखनऊ,विशेष संवाददाता। उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग समूह ‘ग’ के पदों पर भर्ती प्रक्रिया को और पारदर्शी बनाने के लिए एजेंसियों का चयन नए सिरे से करने का फैसला किया है। साफ-सुथरी और विशेषज्ञता वाली एजेंसियों को काम दिया जाएगा, जिससे तय समय के अंदर परीक्षाएं कराते हुए भर्ती प्रक्रिया पूरी की जा सके।अधीनस्थ सेवा चयन आयोग हर साल 10 से 15 हजार पदों पर भर्तियां करता है। इसमें कनिष्ठ सहायक से लेकर तकनीकी पद भी शामिल हैं। आयोग भर्ती परीक्षाओं को पारदर्शी प्रक्रिया से कराने के लिए एजेंसियों को बदलना चाहता है। इसीलिए नए सिरे से एजेंसियों के चयन की प्रक्रिया शुरू की गई है। इसके लिए देश की नामी-गिरामी एजेंसियां खोजी जा रही हैं। चयन प्रक्रिया पूरी करने के लिए ऑफलाइन ढंग ओएमआर आधारित परीक्षा कराने वालों को आमंत्रित किया गया है।

महिला शिक्षक संघ ने मांगी पुरानी पेंशन

लखनऊ। उत्तर प्रदेश महिला शिक्षक संघ ने रविवार को पुरानी पेंशन योजना बहाली अभियान को गति देने के लिए रणनीति पर चर्चा की। संघ की प्रदेश अध्यक्ष सुलोचना मौर्य ने कहा कि पुरानी पेंशन को लेकर शिक्षक संघ दिल्ली तक लड़ाई लड़ेगा। संगठन ने पुरानी पेंशन बहाली के लिए प्रधानमंत्री, केंद्रीय शिक्षा मंत्री, मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री और मुख्य सचिव को ज्ञापन

परिषदीय विद्यालय के शिक्षक की फिल्म ”सरजी” रिलीज

जौनपुर। बेसिक शिक्षा विभाग के शिक्षक-छात्र आत्मीय स्नेह बंधन पर अधारित बनायी गयी फिल्म सर जी गुरूवार को टीडीपीजी कालेज के बलरामपुर हाल में रिलीज की गयी। फिल्म के सभी कलाकार बेसिक शिक्षा विभाग के शिक्षक, छात्र-छात्राएं व अभिभावक ही है। फिल्म में किरदार निभाने वाले कलाकारो ने अपनी प्रस्तुति भी दी। फिल्म का उद्देश्य समाज में गुरु-शिष्य सम्बन्ध को पुनर्जीवित करना है। शिक्षण व शिक्षा और आसान हो जाती है जब शिक्षक और छात्र के सम्बंध प्रगाढ़ हो जाते हैं।शिक्षक शिवम सिंह के निर्देशन में बनी यह तीसरी फिल्म है। फिल्म पटकथा प्रेम तिवारी शिक्षक प्राथमिक विद्यालय भुआकला सिकरारा ने लिखी है। छायांकन शिक्षक राकेश सिंह प्राथमिक विद्यालय हरीरामपुर सिकरारा का है। संगीत शीशमहल स्टूडियो जौनपुर राहुल पाठक का है। बीएसए डा. गोरखनाथ पटेल ने सराहना की।गीतकार सुषमा त्रिपाठी गोरखपुर, प्रेम तिवारी, राकेश सिंह, पुष्कर प्रधान, सीमा मिश्रा है। यह फिल्म नई शिक्षा नीति के मूल उद्देश्य- बच्चों में भाषायी कौशल विकास को केंद्र में रखकर बनी है। गीतों को राहुल पाठक, रुचि शर्मा बरेली, शिवम सिंह, आकांक्षा तिवारी, कृष्धा सिंह, ज़ुबैर खान , सविता पाठक ने आवाज़ दी है राष्ट्र शिक्षक सम्मान से सम्मानित शिक्षिका स्नेहिल पांडेय ने बच्चों के आत्मीय सबन्ध व सिनेमा के महत्व को साझा किया।श्यामिनी सिंह, सौम्या सिंह, राजेश उपाध्याय ने भी सहयोग किया।फिल्म के प्रीमियर शो में धर्मेंद्र सिंह, डाक्टर समर बहादुर सिंह, डा. ज्ञान देव द्विवेदी, प्रमोद कुमार सिंह, अंजना श्रीवास्तव, अंजना सिंह, जिलाध्यक्ष अमित सिंह, सतीश पाठक, राजेन्द्र प्रसाद सिंह, एस आर जी अखिलेश सिंह, जनार्दन सिंह, संजय सिंह, मौजूद रहे। ह

फ़िल्म के बाल कलाकार

(प्राथमिक विद्यालय भुआकला ) -सृष्टि, अमर, सेजल, अर्पिता, कुंजल, बाल कलाकार (प्राथमिक विद्यालय लखेसर) अहम, यश, प्रतीक्षा, एंजेल, काव्या, नितेश, दिव्यांश, विधि, सेजल, निधि, अन्वी, तान्या , साक्षी। बाल कलाकार : कृष्ण , केशव, शौर्य ।

फ़िल्म में मुख्य भूमिका- सुधाकर उपाध्याय (गुरुजी),शिवम सिंह (सरजी), प्रेम तिवारी (साहेब), राकेश सिंह (जीवा), नूपुर श्रीवास्तव (उषा रसोइयां), आशीष मौर्य (लखन गड़ेरिया), रीता यादव (अभिभावक)। ग्रामवासी – बिमला मिश्रा (अम्मा), विकास चन्द्र तिवारी, आदर्श दुबे, सागर सरोज,अंकित सरोज,पिंटू पाल,धर्मेंद्र,महेंद्र प्रसाद पाल,रामप्रसाद पाल,अमरावती, संतोष,मनभावती,सुग्रीवा,संतोष मिश्रा।

पेंशन से जुड़ी चिंताओं को लेकर वरिष्ठ नागरिक परेशान

नई दिल्ली, एजेंसी। सरकारी हेल्पलाइन ‘एल्डरलाइन पर इस साल वरिष्ठ नागरिकों ने पेंशन से जुड़ी चिंताओं, सामाजिक कल्याण योजनाओं, ‘डे-केयर केंद्रों और डॉक्टरों के संबंध में सबसे ज्यादा सवाल किए। यह जानकारी आधिकारिक आंकड़ों में सामने आई। आंकड़ों से यह भी पता चला कि अधिकांश वरिष्ठ नागरिक अकेलेपन का जीवन जीने के लिए मजबूर हैं।आंकड़ों के अनुसार हेल्पलाइन के टोल-फ्री नंबर 14567 पर 87 हजार 218 फोन आए। यह हेल्पलाइन सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय की एक पहल है। एल्डरलाइन अपने एनजीओ भागीदारों के सहयोग से देश भर में संकटग्रस्त वरिष्ठ नागरिकों की सहायता करती है। यह वर्तमान में 31 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में सक्रिय है।

हेल्पलाइन पर 13 हजार से अधिक फोन आए

गैर सरकारी संगठन हेल्पएज इंडिया, मंत्रालय को आठ राज्यों दिल्ली, मध्य प्रदेश, पुडुचेरी, पंजाब, आंध्र प्रदेश, गुजरात और केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर व लद्दाख में हेल्पलाइन चलाने में मदद करता है। संगठन ने कहा कि जनवरी 2023 से सितंबर 2023 तक हेल्पलाइन पर कुल 13 हजार 86 फोन आए। यह आंकड़ा राष्ट्रीय हेल्पलाइन पर प्राप्त कुल कॉल का लगभग 25 फीसदी है।आंकड़ों के मुताबिक, लगभग 21 फीसदी फोन कॉल में वरिष्ठ नागरिकों ने वृद्धाश्रम, ‘डे-केयर सेंटर, अस्पतालों और डॉक्टरों के बारे में जानकारी मांगी। 33 प्रतिशत कॉल में कानूनी मुद्दों, सामाजिक सुरक्षा, पेंशन और भरण-पोषण अधिनियम के संबंध में मार्गदर्शन मांगा गया।

फोन करने वालों में 73 फीसदी पुरुष

हेल्पएज इंडिया के मिशन प्रमुख डॉ. इम्तियाज अहमद ने कहा कि अन्य के तहत वर्गीकृत 41 प्रतिशत से अधिक कॉल में सहायक उपकरणों, दवा व छोटे घरेलू कामों के लिए सहायता मांगी गई और पड़ोसियों के साथ विवादों के समाधान के लिए कहा गया। उन्होंने कहा कि लगभग चार प्रतिशत कॉल बुजुर्गों के साथ दुर्व्यवहार आदि से जुड़े मुद्दों से संबंधित थीं। फोन करने वालों में 73 फीसदी पुरुष और 27 प्रतिशत महिलाएं थीं।उन्होंने कहा कि 23 प्रतिशत कॉल में पेंशन को लेकर जबकि 14 प्रतिशत में वृद्धाश्रम और डॉक्टरों के बारे में पूछताछ की गई। 41 फीसदी लोगों ने घरेलू काम में मदद, बाजार से दवाइयां और अन्य सामान लाने में स्वेच्छा से सहायता करने वाले व्यक्तियों के बारे में जानकारी मांगी।

पेंशन से जुड़ी ज्यादातर कॉल दिल्ली से

अहमद ने कहा कि पिछले साल के दौरान, जनवरी 2022 से दिसंबर 2022 तक, हमें पेंशन मुद्दों से संबंधित 42.5 प्रतिशत कॉल का चौंका देने वाला आंकड़ा मिला। उन्होंने कहा कि ज्यादातर कॉलें दिल्ली से थीं, जिनमें वरिष्ठ नागरिकों ने भुगतान न होने, पेंशन बांटने वाले अधिकारियों तक पहुंचने में असमर्थता या प्रक्रियात्मक देरी के कारण महीनों का भारी बैकलॉग होने की शिकायत की थी। इस साल, पेंशन से संबंधित कॉलों में 23 प्रतिशत की कमी आई।

अकेलेपन का शिकार

डॉ. इम्तियाज अहमद ने कहा कि इन आंकड़ों से पता चलता है कि अधिकांश वरिष्ठ नागरिक या एक बड़ा हिस्सा, अकेलेपन का जीवन जी रहा है। उनको अपने बच्चों या परिजनों से कोई मदद नहीं है जो उनके छोटे कार्यों में सहयोग कर सकें। उन्होंने कहा कि उनके लिए घर से मिलने वाला सामाजिक समर्थन खत्म हो गया है और उन्हें हेल्पलाइन से मदद लेने के लिए मजबूर होना पड़ा।

नेपाल से शैक्षणिक संबंध बनाएगा लखनऊ विश्वविद्यालय

नेपाल के सांसद ले मिला एलयू प्रतिनिधिमंडल

संस्कृति व शिक्षा की भूमिका पर हुई चर्चा

लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. आलोक कुमार राय ने नेपाल यात्रा के दौरान नेपाल के सांसद रमेश लेखक से मुलाकात की। एलयू के प्रतिनिधिमंडल से बातचीत में नेपाल के सांसद ने भारत-नेपाल के सांस्कृतिक व शैक्षणिक संबंधों पर बात की।उन्होंने बताया कि एलयू से एमए व एलएलबी की डिग्री प्राप्त की है। पुराने दिनों को याद करते हुए उन्होंने कहा कि लखनऊ विश्वविद्यालय में मुझे गुणवत्तापूर्ण शिक्षण मिला। साथ ही आचार्य नरेंद्र देव छात्रावास के अनुभव साझा किए। प्रो. आलोक कुमार राय ने लेखक को एलयू आने निमंत्रण देते हुए दोनों देशों के संबंधों को मजबूत करने की दिशा में सांस्कृतिक रूप से समावेशी शिक्षा की भूमिका पर चर्चा की। यहां प्रो. राय क्वेस्ट इंटरनेशनल कॉलेज के शिक्षाविदों से मिले। उन्होंने ज्ञान के प्रसार को सामाजिक और वैश्विक चुनौतियों से जोड़ने को अहम जिम्मेदारी बताया। क्वेस्ट इंटरनेशनल कॉलेज के नेपाली शैक्षिक प्रशासन से दोनों पड़ोसी देशों की संस्कृति पर विचार किया।

पुरानी पेंशन बहाली के लिए पदयात्रा निकाली

हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराज पुरानी पेंशन बहाली के लिए नई दिल्ली के रामलीला मैदान की रैली और आंदोलन के समर्थन में रविवार को इलाहाबाद विश्वविद्यालय संघटक शिक्षक संघ (ऑक्टा) की ओर से सिविल लाइंस चर्च चौराहा से सुभाष चौराहा तक पदयात्रा निकाली गई। पुरानी पेंशन हक है हमारा, लेके रहेंगे, पुरानी पेंशन वापस लाओ, ओपीएस बहाल करो, एनपीएस बाहर जाओ आदि नारे लगाए गए। इसमें इलाहाबाद विश्वविद्यालय के 11 संघटक महाविद्यालयों से सैकड़ों शिक्षकों ने ऑक्टा अध्यक्ष डॉ. उमेश प्रताप सिंह के नेतृत्व में भाग लिया। ऑक्टा अध्यक्ष ने कहा कि सेवानिवृत्ति के बाद सरकारी कर्मचारियों को पेंशन नहीं मिलना सरकार का सामाजिक सुरक्षा के अपने दायित्व से पीछे हटना है।नेशनल मूवमेंट फॉर ओल्ड पेंशन स्कीम (एनएमओपीएस) की ओर से नई दिल्ली में आयोजित रैली का समर्थन किया गया। पूर्व अध्यक्ष डॉ. सुनील कांत मिश्रा, ऑक्टा उपाध्यक्ष डॉ. अखिलेश त्रिपाठी, महासचिव डॉक्टर संतोष कुमार श्रीवास्तव, संयुक्त सचिव डॉ. आशीष मिश्रा, कोषाध्यक्ष हरिश्चंद्र यादव, पूर्व उपाध्यक्ष डॉ. धीरेंद्र द्विवेदी आदि शामिल रहे।

सरकार कोरोना में खत्म किये भत्ते बहाल करे

संयुक्त संघर्ष संचालन समिति की बैठक में पदाधिकारियों ने रखी कई मांगें

लखनऊ। कार्यालय संवाददाता संयुक्त संघर्ष संचालन समिति (एस-4) ने रविवार को बैठक में सरकार से पुरानी पेंशन और कोरोना में खत्म किये विभिन्न भत्तों की बहाली की मांग उठायी। रॉयल होटल चौराहा स्थित कार्यालय में आयोजित कार्य समिति की बैठक में महासचिव आरके निगम, उपाध्यक्ष राजेश सिंह व वरिष्ठ उपाध्यक्ष विनय सिंह ने बताया कि सरकार निजीकरण और आउट सोर्सिंग पर युवाओं की भर्ती प्रकिया पर रोक लगाए। आउट सोर्सिंग पर काम कर रहे कर्मियों का नियमितीकरण किया जाये। प्राथमिक शिक्षकों एवं शिक्षणेत्तेर कर्मियों को राज्य कर्मियों की तरह कैशलेस व चिकित्सा प्रतिपूर्ति सुविधा दी जाए। पदाधिकारियों ने बताया कि पुरानी पेंशन बहाली के लिए संगठन दूसरे संगठनों के साथ आंदोलनों में भागीदार कर रहा है। समिति के पदाधिकारी व सदस्य गांधी जयंती पर सोमवार को जीपीओ पार्क स्थित महात्मा गांधी जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण करेंगे।

यूपी का मौसम: मानसून के लौटने से पहले इन जिलों में भारी वर्षा का अनुमान, मौसम विभाग ने जारी किया येलो अलर्ट

अमर उजाला सिटी रिपोर्टर, लखनऊ लौटता हुआ मानसून यूपी के कुछ जिलों में भारी बारिश कराकर लौटेगा। मौसम विभाग ने पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों में भारी बारिश के साथ वज्रपात होने की चेतावनी दी है। आंचलिक मौसम विज्ञान केन्द्र के वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अतुल कुमार सिंह के मुताबिक कुछ जिलों में मौसम एकदम से करवट बदल सकता है। हालांकि पश्चिमी यूपी में मौसम सामान्य बना रहेगा और धूप खिलती रहेगी कुछ जिलों में जरुर यहां भी हल्की बारिश हो सकती है।

इन जिलों में बारिश का अनुमान

बांदा, चित्रकूट, कौशांबी, प्रयागराज, फतेहपुर, प्रतापगढ़, सोनभद्र, मिर्जापुर, चंदौली, वाराणसी, संत रविदास नगर, जौनपुर, आजमगढ़, कानपुर नगर, उन्नाव, लखनऊ, रायबरेली, अमेठी, सुल्तानपुर, अयोध्या व आसपास वज्रपात के आसार हैं। जबकि कौशांबी, प्रयागराज, सोनभद्र, मिर्जापुर, चंदौली, वाराणसी, संत रविदासनगर, जौनपुर, गाजीपुर, मऊ, बलिया, देवरिया व आसपास भारी बरसात हो सकती है। इसे लेकर येलो अलर्ट भी जारी किया गया है। वहीं पश्चिम यूपी के कुछ इलाकों में भी बरसात हो सकती है। मौसम वैज्ञानिक मो. दानिश के मुताबिक, लखनऊ व आसपास आंशिक रूप से बादल छाने व बूंदाबांदी के आसार हैं।

कुछ दिनों से हो रही चटख धूप

लखनऊ और आसपास के जिलों में बीते कुछ दिनों से तेज और चटख धूप देखने को मिल रही है। आकाश में बादल नहीं दिख रहे हैं। हालांकि मौसम बदलने से उमस का असर कम हुआ है। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार लखनऊ और उसके आसपास हल्की बारिश हो सकती है। दिन में बादल भी छाए रह सकते हैं।

वाणिज्यिक गैस सिलेंडर 209 रुपये महंगा हुआ 

नई दिल्ली, एजेंसी। तेल कंपनियों ने रविवार को वाणिज्यिक इस्तेमाल वाले 19 किलोग्राम के रसोई गैस सिलेंडर (एलपीजी) के दाम 209 रुपये बढ़ा दिए। घरेलू सिलेंडर के दाम 903 रुपये पर कायम है।दिल्ली में वाणिज्यिक सिलेंडर अब 1,731.50 रुपये का हो गया है। इससे पहले वाणिज्यिक एलपीजी के दाम एक सितंबर को 157.5 रुपये घटाए गए थे। वहीं, विमान ईंधन की कीमतों में 5 की बढ़ोतरी की गई है। इससे पहले एक सितंबर को 14.1 प्रतिशत की बढ़ोतरी की गई

यूपीपीएससी : आरओ/एआरओ का विज्ञापन इसी हफ्ते जारी करने की तैयारी, 180 पदों पर होनी है भर्ती

अमर उजाला नेटवर्क, प्रयागराज उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) समीक्षा अधिकारी (आरओ)/सहायक समीक्षा अधिकारी (एआरओ) भर्ती परीक्षा-2023 का विज्ञापन इसी हफ्ते जारी करने की तैयारी में है। अभ्यर्थी दो साल से इस भर्ती का इंतजार कर रहे हैं।आरओ/एआरओ के 180 पदों पर भर्ती की तैयारी है। यह भर्ती भी कई माह से समकक्ष अर्हता के विवाद में फंसी हुई थी। आयोग को भर्ती के लिए रिक्त पदों का अधियाचन काफी पहले मिल चुका था, लेकिन समकक्ष अर्हता पर स्थिति स्पष्ट न होने के कारण आयोग विज्ञापन जारी नहीं कर रहा था। अब शासन स्तर से समकक्ष अर्हता पर स्थिति स्पष्ट कर दी गई है और भर्ती का विज्ञापन जारी होने का रास्ता भी साफ हो गया है।इसी तरह अपर निजी सचिव (एपीएस) के पदों पर भी भर्ती समकक्ष अर्हता के विवाद में फंसी हुई थी। इस भर्ती का विज्ञापन भी आयोग ने कुछ दिनाें पहले जारी किया है। यह भर्ती भी दस साल बाद आई है। हालांकि, एपीएस भर्ती के मुकाबले आरओ/एआरओ भर्ती में आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों की संख्या कई गुना अधिक होती है और आयोग के लिए यह वजह चुनौती बनी हुई है।

ओटीआर किया गया अनिवार्य

दरअसल, आयोग ने अपनी सभी भर्ती परीक्षाओं के लिए वन टाइम रजिस्ट्रेशन (ओटीआर) अनिवार्य कर दिया है। ओटीआर नंबर के बिना अभ्यर्थियों के आवेदन स्वीकृत नहीं होंगे। समस्या यह है कि इस भर्ती के लिए जितनी संख्या में आवेदन अपेक्षित हैं, उतनी संख्या में अभी ओटीआर नहीं हुए हैं। ऐसे में विज्ञापन जारी होने के बाद आवेदन फंस सकते हैं। इसी वजह से आयोग के सचिव ने दिशा-निर्देश भी जारी किए हैं कि अभ्यर्थी विज्ञापन जारी होने से पूर्व ओटीआर नंबर प्राप्त कर लें।

नोशनल वार्षिक वेतन वृद्धि के मामले में जवाब मांगा 

प्रयागराज, विधि संवाददाता। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 30 जून को सेवानिवृत्त होने वाले सरकारी कर्मचारियों को एक नोशनल वार्षिक वेतन वृद्धि के लाभ की मांग में दाखिल जगवीर सिंह रोहिला की याचिका में प्रदेश सरकार के मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव वित्त और प्रमुख सचिव पर्सनल को पक्षकार बनाने की अनुमति देते हुए उनसे चार सप्ताह में प्रतिशपथ पत्र मांगा है। यह आदेश न्यायमूर्ति अब्दुल मोईन ने दिया है।याची के अधिवक्ता जगदीश सिंह बुंदेला ने बताया कि याचिका में संशोधन और पक्षकार बनाने की अर्जियां 2020 में ही दाखिल की गई थीं। अर्जी में सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के क्रम में चार मई 2010 के शासनादेश में संशोधन करने और प्रदेश सरकार के मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव वित्त व प्रमुख सचिव पर्सनल को प्रतिपक्षी के रूप में पक्षकार बनाने की मांग की गई थी। कोर्ट ने दोनों प्रार्थना पत्रों को स्वीकार करते हुए नए पक्षकारों से याचिका पर चार सप्ताह में जवाब मांगा है। गाजियाबाद में सिंचाई विभाग में अधिशासी अभियंता कार्यालय में वैयक्तिक सहायक ग्रेड वन के पद से 30 जून 2018 को सेवानिवृत्त जगवीर सिंह रोहिला ने मद्रास हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की प्रतियां संलग्न कर एक वेतनवृद्धि की मांग की। सिंचाई विभाग के विभागाध्यक्ष द्वारा कोई कार्यवाही नहीं करने पर इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की। सुनवाई के बाद कोर्ट ने याची के प्रकरण में दो महीने में निर्णय लेने का आदेश दिया। सिंचाई विभाग के प्रमुख अभियंता एवं विभागाध्यक्ष ने कहा कि वित्तीय हस्त पुस्तिका के खंड दो भाग दो व चार में इस तथ्य का कहीं उल्लेख नहीं है कि याची को पेंशन की स्वीकृति के दिनांक का वेतनवृद्धि देय है। साथ ही कहा कि मद्रास हाईकोर्ट ने आदेश केवल पी अय्यम पेरूमल के संबंध में दिया है। याची ने प्रमुख अभियंता एवं विभागाध्यक्ष सिंचाई विभाग के के आदेश को पुन याचिका दाखिल कर चुनौती दी। कोर्ट ने विपक्षियों से प्रतिशपथ पत्र दाखिल करने को कहा। हाईकोर्ट की डिवीजन बेंच ने बंच केस की सुनवाई करते हुए कहा कि 30 जून को सेवानिवृत्त होने वाले सरकारी कर्मचारी एक वेतनवृद्धि के हकदार हैं। सुप्रीम कोर्ट ने सिविल अपील पर पारित आदेश में कहा कि 30 जून को सेवानिवृत्त होने वाले सरकारी कर्मचारी एक वेतनवृद्धि के हकदार हैं

नई शिक्षक भर्ती को आज प्रदर्शन करेंगे बेरोजगार

प्रयागराज। परिषदीय प्राथमिक स्कूलों में नई शिक्षक भर्ती शुरू करने की मांग को लेकर टीईटी व सीटीईटी पास डीएलएड अभ्यर्थी सोमवार को पत्थर गिरजाघर के पास धरनास्थल पर प्रदर्शन करेंगे। प्रशिक्षित मोर्चा के अध्यक्ष रजत सिंह का कहना है कि पांच साल से कोई भर्ती नहीं आई है। मुख्यमंत्री ने सभी विभागों से रिक्त पदों का डाटा मांगा है, लेकिन बेसिक शिक्षा विभाग में शिक्षकों के 1.26 लाख पद रिक्त होने के बाद भी विभाग ने सूचना नहीं दी है।

स्कूल का ताला तोड़ सामान उठा ले गए 

सैदाबाद। प्राथमिक विद्यालय घराघनपुर द्वितीय दुमदुमा का ताला तोड़कर शनिवार रात चोर एक सिलेण्डर, एक लाइटर व प्रार्थना कराने के लिए ऑफिस में रखा माइक उठा ले गए। सुबह स्कूल में रसोइयां आई तो ताला टूटा देखकर उसके होश उड़ गए। मामले की सूचना ग्राम प्रधान व प्रधानाध्यापक को दी गईं। मामले की तहरीर चौंकी पुलिस को देकर कार्रवाई की मांग की गई

65 प्रतिशत ने डेंटल सर्जन स्क्रीनिंग परीक्षा दी

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग में डेंटल सर्जन के 174 पदों पर भर्ती के लिए रविवार को प्रयागराज और लखनऊ के 36 केंद्रों पर आयोजित स्क्रीनिंग परीक्षा में 65 प्रतिशत अभ्यर्थी उपस्थित हुए। उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने पंजीकृत 15861 अभ्यर्थियों के लिए प्रयागराज में 15 और लखनऊ में 21 केंद्र बनाए थे।

Related Articles

Back to top button