WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.15 PM
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.16 PM (1)
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.16 PM (2)
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.16 PM
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.17 PM (1)
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.17 PM
previous arrow
next arrow
क्राइमदेश-विदेशबिहारराष्ट्रीय
Trending

चारा घोटाले के सबसे बड़े मामले में लालू दोषी करार:रांची CBI कोर्ट ने डोरंडा ट्रेजरी मामले में सुनाया फैसला, सजा का ऐलान 18 फरवरी को

950 करोड़ रुपए के देश के बहुचर्चित चारा घोटाले के सबसे बड़े (डोरंडा ट्रेजरी से 139.35 करोड़ रुपए के गबन) केस में मंगलवार को फैसला आ गया। CBI की विशेष अदालत ने RJD सुप्रीमो लालू यादव सहित 75 आरोपियों को दोषी करार दिया है। वहीं, 24 लोगों को बरी कर दिया गया है। सजा का ऐलान 18 फरवरी को होगा। जैसे ही RJD सुप्रीमो के दोषी करार देने की सूचना बाहर आई पटना से लेकर रांची तक उनके समर्थकों में मायूसी छा गई। कोर्ट परिसर RJD नेताओं से पटा है। पुलिस का पहरा सख्त कर दिया गया है।

बता दें, इससे पहले चारा घोटाले के 4 मामले (देवघर के एक, दुमका ट्रेजरी की दो अलग-अलग धारा और चाईबासा ट्रेजरी से संबंधित दो मामलों में) लालू दोषी करार दिए जा चुके हैं। अभी पहले के सभी मामलों में जमानत पर बाहर थे, लेकिन मंगलवार को कोर्ट के आए फैसले से उन्हें एक बार फिर जेल जाना होगा।

29 जनवरी को CBI के विशेष न्यायाधीश एसके शशि की अदालत ने बहस पूरी होने के बाद 15 फरवरी को फैसले की तारीख निर्धारित की थी। सभी आरोपियों को कोर्ट में सशरीर हाजिर होने का आदेश दिया था। सुनवाई में उपस्थित रहने के लिए लालू 2 दिन पहले 13 फरवरी को ही रांची पहुंच गए थे।

कोर्ट में सुनवाई से पहले लालू के वकील प्रभात कुमार ने कहा था, ‘अभियुक्तों की उम्र 75 वर्ष से अधिक है। लालू यादव जेल जाने की स्थिति में नहीं है। ऐसे में कोर्ट से राहत की उम्मीद है। पहले वाले केस में स्थितियां अलग थी, आज अलग है।’

इधर, पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास के बाहर सन्नाटा पसरा हुआ है। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, राबड़ी देवी के आवास में हैं। लालू प्रसाद यादव की पत्नी और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी भी पटना में ही हैं। लालू प्रसाद की बड़ी बेटी मीसा भारती रांची में अपने पति के साथ हैं।

जानिए, डोरंडा ट्रेजरी घोटाला आखिर है क्या?

डोरंडा ट्रेजरी से 139.35 करोड़ रुपए की अवैध निकासी के इस मामले में पशुओं को फर्जी रूप से स्कूटर पर ढोने की कहानी है। यह उस वक्त का देश का पहला मामला माना गया जब बाइक और स्कूटर पर पशु को ढोया गया हो। यह पूरा मामला 1990-92 के बीच का है। CBI ने जांच में पाया कि अफसरों और नेताओं ने मिलकर फर्जीवाड़ा का अनोखा फॉमुर्ला तैयार किया। 400 सांड़ को हरियाणा और दिल्ली से स्कूटर और मोटरसाइकिल पर रांची तक ढोया गया। ताकि बिहार में अच्छी नस्ल की गाय और भैंसों का उत्पादन किया जा सके। पशुपालन विभाग ने 1990-92 के दौरान 2,35, 250 रुपए में 50 सांड़, 14, 04,825 रुपए में 163 सांड़ और 65 बछिया खरीदा।

इतना ही नहीं विभाग ने इस दौरान क्रॉस ब्रिड बछिया और भैंस की खरीद पर 84 लाख 93 हजार 900 रुपए का भुगतान मुर्रा लाइव स्टॉक दिल्ली के दिवंगत प्रोपराइटर विजय मल्लिक को की थी। इसके अलावा भेड़ और बकरी की खरीद पर भी 27 लाख 48 हजार रुपए खर्च किए थे।

विभाग ने स्कूटर और मोपेड का नंबर दिया

इस घोटाले की खास बात है कि जिस गाड़ी नंबर को विभाग ने पशुओं को लाने के लिए रजिस्टर में दर्शाया था वह सभी स्कूटर और मोपेड के थे। CBI ने जांच में पाया है कि लाखों टन पशुचारा, भूसा, पुआल, पीली मकई, बादाम, खल्ली, नमक आदि स्कूटर, मोटरसाइकिल और मोपेड पर ढोए गए। देश के सभी राज्यों के करीब 150 DTO और RTO से गाड़ी नंबर की जांच कराकर जांच टीम ने सबूत जुटाए हैं।

CBI के मुताबिक, इस घोटाले में लाखों टन भूसा, पुआल, पीली मकई, बदाम खली, नमक आदि सामान भी स्कूटर, बाइक और मोपेड पर ढोए गए थे। लेकिन दिलचस्प यह है कि हरियाणा से बढ़िया नस्ल के सांड़, बछिया और हाईब्रिड भैंस भी स्कूटर से ही झारखंड लाए गए थे, ताकि यहां अच्छी नस्ल की गाय और भैंसों का उत्पादन किया जा सके।

बयान दर्ज कराने में लगे 15 साल

इस मामले में 575 गवाहों का बयान दर्ज कराने में CBI को 15 साल लग गए। 99 आरोपियों में 53 आरोपी आपूर्तिकर्ता हैं, जबकि 33 आरोपी पशुपालन विभाग के तत्कालीन अधिकारी और कर्मचारी हैं। वहीं, 6 आरोपी तत्कालीन कोषागार पदाधिकारी हैं, जबकि मामले के 6 आरोपी ऐसे हैं, जिन्हें CBI आज तक नहीं खोज सकी है।

मीसा भारती बोलीं… पिता की तबीयत खराब

सोमवार को लालू की बड़ी बेटी मीसा भारती रांची पहुंची थी। राजकीय अतिथिशाला में उन्होंने लालू प्रसाद से मुलाकात कर सिर्फ इतना कहा था कि उनके पिता की तबीयत खराब है।

इन आरोपियों के भाग्य का फैसला

राजनीतिज्ञ

  • लालू प्रसाद – बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री
  • ध्रुव भगत – पूर्व MLA सह अध्यक्ष पीएसी
  • जगदीश शर्मा – पूर्व विधायक सह अध्यक्ष पीएसी
  • डॉ. आरके राणा – पूर्व मंत्री सह विधायक

अधिकारी एवं वरीय अधिकारी

  • बेक जूलियस – पूर्व पशुपालन सचिव
  • अधीप चंद्र चौधरी – पूर्व आयकर आयुक्त, रांची
  • नित्या नंद कुमार सिंह – पूर्व बजट एवं लेखा पदाधिकारी, पटना
  • महेंद्र प्रसाद – पूर्व ट्रेजरी अधिकारी, डोरंडा रांची
  • देवेंद्र प्रसाद श्रीवास्तव – सहायक आयुक्त, (कॉमर्शियल टैक्स) पटना
  • परमेश्वर प्रसाद यादव – प्रोगेसिव सहायक (सांख्यिकीविद्), रांची

लेखा कार्यालय

  • एनुल हक – अकाउंटेंट, डोरंडा कोषागार
  • राजेंद्र पांडेय – अकाउंटेंट डोरंडा कोषागार
  • साकेत बिहारी लाल – स्क्रूटिनी क्लर्क डोरंडा
  • दीना नाथ सहाय – स्क्रूटिनी क्लर्क
  • राम सेवक साहू – स्क्रूटिनी क्लर्क डोरंडा कोषागार

पूर्व पशुपालन पदाधिकारी

  • डॉ. राधा रमन सहाय – पूर्व आहरण एवं संवितरण अधिकारी, एएचडी, रांची
  • डॉ. कृष्ण मोहन प्रसाद – पूर्व सहायक निदेशक(प्लानिंग), एएचडी, रांची
  • डॉ. जूनुल भेंगराज – पूर्व क्षेत्रीय निदेशक, एएचडी, रांची
  • डॉ. गौरी शंकर प्रसाद – पूर्व जिला पशुपालन पदाधिकारी, रांची
  • डॉ. बृज नंदन शर्मा – पूर्व जिला पशुपालन पदाधिकारी, चाईबासा
  • डॉ. राम प्रकाश राम – पूर्व जिला पशुपालन पदाधिकारी, पलामू व जमशेदपुर
  • डॉ. जसबंत सहाय – पूर्व सहायक निदेशक, चाईबासा
  • डॉ. जितेंद्र कुमार श्रीवास्तव – पूर्व प्रोजेक्ट अधिकारी, खूंटी
  • डॉ. रवींद्र कुमार सिंह – पूर्व टीवीओएम चाईबासा
  • सुरेंद्र कुमार सिंह – पूर्व टूरिंग वेटनरी अधिकारी, डालटेनगंज
  • डॉ. प्रभात कुमार सिन्हा – पूर्व टीवीओएम, डालटेनगंज
  • डॉ. कामेश्वर प्रसाद यादव – पूर्व सहायक पोल्ट्री अधिकारी, रांची
  • डॉ. ललितेश्वर प्रसाद यादव – पूर्व मैनेजर, पीबीएफ-20, होटवार
  • डॉ. शशि भूषण वर्मा – पूर्व टीवीओएम, लोहरदगा
  • डॉ. कृष्ण बिहारी लाल – पूर्व मैनेजर, आरपीएफ होटवार
  • डॉ. शैलेंद्र कुमार सिन्हा – पूर्व टीबीओएम, चाईबासा
  • डॉ. अजित कुमार सिन्हा – पूर्व सहायक फार्म मैनेजर, होटवार
  • डॉ. राकेश कुमार सिन्हा – पूर्व टूरिंग वेटनरी अधिकारी, जमशेदपुर
  • डॉ. राजेंद्र बैठा – पूर्व सब-डिवीजनल पशुपालन पदाधिकारी, सरायकेला
  • डॉ. चंदेर किशोर लाल – पूर्व सहायक प्रबंधक, होटवार
  • डॉ. बिरसा उरांव – पूर्व सहायक फार्म मैनेजर, होटवार
  • डॉ. रामाशिष सिंह – पूर्व प्रखंड पशुपालन पदाधिकारी
  • डॉ. शिव नंदन प्रसाद – सहायक निदेशक(पोल्ट्री) जमशेदपुर
  • डॉ. अर्जुन शर्मा – सहायक निदेशक(पोल्ट्री) चाईबासा
  • डॉ. मुकेश कुमार श्रीवास्तव – सहायक निदेशक(पोल्ट्री) चाईबासा
  • डॉ. बृज नंदन प्रसाद वर्मा – सहायक निदेशक, पोल्ट्री फार्म, होटवार
  • डॉ. नलिन रंजन प्रसाद सिन्हा – पूर्व फार्म मैनेजर, होटवार
  • डॉ. कमल किशोर शर्मा – पूर्व सहायक निदेशक(पोल्ट्री) खूंटी
  • डॉ. उमा कान्त यादव – पूर्व मैनेजर, सूअर विकास यूनिट-10, होटवार
  • डॉ. राम किशोर शर्मा – चलंत पशुचिकित्सक, जमशेदपुर
  • डॉ. राम नाथ राम – पूर्व सब-डिवीजनल, पशुपालन पदाधिकारी, चक्रधरपुर

आपूर्तिकर्ता

  • रवि नंदन कुमार सिन्हा – मेसर्स ए ट्रेडर्स पटना
  • अशोक कुमार यादव – मेसर्स अशोक कुमार एंड ब्रदर्स रांची
  • मो. सईद – मेसर्स एमएस इंटरप्राइजेज रांची
  • सनाउल हक – मेसर्स छोटानागपुर कटल फूड सप्लाई, रांची
  • मो. इकराम – मेसर्स छोटानागपुर कटल फूड सप्लाई, रांची
  • मो. हुसैन – – मेसर्स छोटानागपुर कटल फूड सप्लाई, रांची
  • सैरूनिशा – – मेसर्स छोटानागपुर कटल फूड सप्लाई, रांची
  • मो. तौहीद – – मेसर्स छोटानागपुर कटल फूड सप्लाई, रांची
  • जगमोहन लाल कक्कड़ – मेसर्स नवकेतन इंटरप्राइजेज रांची
  • मोहिंदर सिंह बेदी – मेसर्स सेमेक्स क्रिजेनिक्स, दिल्ली
  • दयानंद प्रसाद कश्यप – मेसर्स वैष्णव इंटरप्राइजेज, रांची
  • कलशमणि कश्यप – मेसर्स वैष्णव इंटरप्राइजेज, रांची
  • बलदेव साहू – मेसर्स वैष्णव इंटरप्राइजेज, रांची
  • सुरेश कुमार दुबे – मेसर्स छोटानागपुर वेटरिनरी इंटरप्राइजेज, रांची
  • उमेश दुबे – मसर्स जय भंडार एंड सप्लाइ, बिहार
  • अभय कुमार सिन्हा – मेसर्स पीएन इंटरप्राइजेज, रांची
  • रंजीत सिन्हा – मेसर्स आर कारपोरेशन, रांची
  • सत्येन्द्र कुमार मेहरा – मेसर्स सत्येंद्र कंस्ट्रक्शन, रांची
  • श्याम नंदन सिंह – मेसर्स श्याम इंडसट्रीज, रांची
  • नंद किशोर प्रसाद – मेसर्स त्रिशुल इंटरप्राइजेज, रांची
  • राजेश मेहरा – मेसर्स वीकेसी ट्रेडर्स, रांची
  • संदीप मल्लिक – मेसर्स हिन्दुस्तान लाइव स्टोक एजेंसी, दिल्ली
  • सरस्वती चंद्र – मेसर्स एसआर इंटरप्राइजेज, पटना
  • डॉ. बिजयेश्वरी प्रसाद सिन्हा – मेसर्स एकता वेटेरिनरी वर्क, रांची
  • सुनील कुमार सिन्हा – मेसर्स श्री बाबा केमिकल वर्क, पटना
  • त्रिपुरारी मोहन प्रसाद – मेसर्स बिहार सरजिको मेडिको एजेंसी, पटना
  • अनिल कुमार सिन्हा – मेसर्स एमपी प्राइवेट लि. पटना
  • सुशील कुमार सिन्हा – मेसर्स समर्पन वेटेरिनरी इंटरप्राइजेज, पटना
  • राकेश गांधी उर्फ सुनिल गांधी – मेसर्स मगध डिस्ट्रीब्यूर्टस,पटना
  • निर्मला प्रसाद – मेसर्स मडिवेट, रांची
  • कुमारी अनिता प्रसाद – मेसर्स मेडिवेट रांची
  • शरद कुमार – मेसर्स मेडवेट रांची
  • नयन रंजन – मेसर्स नयन फार्मा, पटना
  • सुलेखा देवी – मेसर्स श्री शंकर मेडिकल एजेंसी
  • मदन मोहन पाठक – मेसर्स स्वर्णरेखा मेडिकल एजेंसी, रांची
  • बाल कृष्ण शर्मा – श्री गौरी एजेंसी, भागलपुर
  • रामावतार शर्मा – मेसर्स तिरूपति एजेंसी, पटना
  • संजय कुमार – मेसर्स हिन्दुस्तान फार्मास्युटिकल पटना
  • मंजु बाला जायसवाल – मेसर्स आरके भगत रांची
  • चंचला सिन्हा – मेसर्स मगध केमिकल कारपोरेशन, पटना
  • रबीन्द्र प्रसाद – मेसर्स मगध केमिकल कारपोरेशन, पटना
  • रामा शंकर सिंह – मेसर्स इंटर फार्मास्युटिकल, पटना
  • डॉ. अजित वर्मा – मेसर्स लिटल ओक फार्मास्युटिकल, कोलकाता
  • बसंत कुमार सिन्हा – मेसर्स इंटर फार्मास्युटिकल, पटना
  • सुनील कुमार श्रीवास्तव – मेसर्स क्यू-मैक्स लेबोरेटरीज, नासिक
  • प्रांति सिंह – मेसर्स अग्रोवेट इंडस्ट्रीज, रांची
  • राम नंदन सिंह – मेसर्स एग्रोवेट सेल्स एंड सर्विस, रांची
  • रवि कुमार मेहरा – मेसर्स अरके इंटरप्राइजेज, रांची
  • हरिश खन्ना – मेसर्स एशियन ब्रीडर्स, नई दिल्ली
  • मधु मेहता -मेसर्स एशियन ब्रीडर्स, नई दिल्ली
  • राजन मेहता – मेसर्स एशियन ब्रीडर्स, नई दिल्ली
  • महेंद्र कुमार कुंदन – मेसर्स कृष्णा ट्रेडर्स, रांची
  • राजेंद्र कुमार हरित – मेसर्स पूजा रोडलाइन, रांची

Related Articles

Back to top button