WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.15 PM
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.16 PM (1)
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.16 PM (2)
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.16 PM
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.17 PM (1)
IMG_20240301_142817
IMG_20240301_142817
IMG_20240301_142817
previous arrow
next arrow
उत्तरप्रदेश

मौसम विभाग द्वारा जारी किये गये बारिश के पूर्वानुमान के दृष्टिगत जिला प्रशासन एलर्ट

मौमस विभाग द्वारा जारी वर्षा के पूर्वानुमान के दृष्टिगत जिलाधिकारी के निर्देश पर जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा एडवाइजरी जारी की गई है।

अपर जिलाधिकारी(वि0/रा0)/प्रभारी अधिकारी दैवीय आपदा सुरेश सोनी ने बताया कि भारतीय मौसम विभाग से प्राप्त पूर्व चेतावनी के अनुसार जनपद में दिनांक 17 मार्च से 20 मार्च 2023 तक वर्षा की सम्भावना व्यक्त की गयी है। इसके दृष्टिगत जनसमान्य को सचेत करते हुए सावधानियां बरतने के सुझाव दिए गए हैं। बताया गया है कि पुराने जर्जर भवनों में निवास न करें यथा संभव सुरक्षित स्थान पर ही निवासित हों तथा आवश्यक कार्य होने पर ही घर से बाहर जायें। इसके साथ ही भीड़-भाड़ वाले व ट्रैफिक जाम वाले क्षेत्रों में जाने से बचें। खुले सीवर व बिजली के तारों से बचकर रहें। विद्युत ब्रेकडाउन आदि के लिए हेल्प लाइन नम्बर-1912 पर कॉल करें। पीने के पानी को उबालकर पीयंे, नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र से ब्लीचिंग पाउडर व क्लोरीन टैबलेट प्राप्त कर लें। किसी भी चिकित्सीय आपात काल में मुख्य चिकित्साधिकारी गोण्डा के कन्ट्रोल रूम न०- 05262 227855 एवं एम्बुलेन्स सेवा 108 कॉल पर सम्पर्क करें।

जिला आपदा विशेषज्ञ राजेेश श्रीवास्तव ने बताया है कि किसी सिविक समस्या, जलभराव, वृक्षपाटन या अन्य किसी समस्या में कलेक्ट्रेट में संचालित जनपद स्तरीय इन्टीग्रेटेड कन्ट्रोल कमाण्ड सेन्टर के नम्बर 05262230125 तथा टोल फ्री नम्बर 1077 पर सम्पर्क करें। समस्त राजकीय चिकित्सालय, पी०एच०सी० एवं सी०एच०सी० सभी अस्पताल अलर्ट पर रहें। ट्रामा मैनेजमेंट, सर्पदंश बिजली के झटके एवं जल जनित रोगो के उपचार की व्यवस्था अपने चिकित्सालयों पर सुनिश्चित करे लें। आकस्मिक सेवाओं में तैनात अधिकारी/कर्मचारी डयूटी पर उपस्थित रहें। औषधियों आदि की व्यवस्था, रोगी वाहन की व्यवस्था भी सुनिश्चित कर ली जाय। आकाशीय विद्युत से होने वाली दुर्घटनाओं से बचाव एवं पूर्व चेतावनी हेतु दामिनी ऐप का प्रयोग करें। मौसम के सम्बन्ध में रेडियो, टीवी, समाचार पत्रों एवं सोशल मीडिया आदि माध्यमों से जानकारी अपडेट लेते रहें। फसलों की सुरक्षा हेतु पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित कर लें तथा पशुओं को सुरक्षित स्थान पर रखें

Related Articles

Back to top button