WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.15 PM
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.16 PM (1)
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.16 PM (2)
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.16 PM
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.17 PM (1)
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.17 PM
previous arrow
next arrow
उत्तरप्रदेशराजस्थानराष्ट्रीय
Trending

राजस्थान में शादी में दहेज में मिले ₹7500000 को गर्ल्स हॉस्टल बनाने के लिए लड़की ने दिया लड़की का लड़कियों के लिए एक सराहनीय कदम

जयपुर, 26 नवंबर: राजस्थान के बाडमेर की एक लड़की ने ऐसा काम किया है, जिसकी हर कोई तारी कर रहा है। लड़की ने अपने दहेज में मिले रुपए से लड़कियों के लिए हॉस्टल बनवाने का फैसला लिया है।


बाडमेर की अंजलि को उनसे पिता किशोर सिंह कानोड दहेज में 75 लाख रुपए दे रहे थे। इस पर अंजलि ने कहा कि उनको ये पैसा नहीं चाहिए, वो चाहती है कि इससे एक गर्ल्स हॉस्टल शहर में बन जाए ताकि लड़कियों को सहूलियत हो जाए। इस पर पिता ने उनकी इच्छा का सम्मान करते हुए ये रुपए हॉस्टल के लिए दे दिए।


दैनिक भास्कर में छपी रिपोर्ट के अनुसार, बाड़मेर शहर के किशोर सिंह कानोड की बेटी अंजलि की शादी 21 नवंबर को प्रवीण सिंह से हुई है। अंजलि को पता चला कि उनके पिता दहेज में 75 लाख की बड़ी रकम दे रहे हैं और ये पैसा उन्होंने उसी के लिए जोड़ रखा है। इस पर अंजलि ने अपने पिता से कहा कि दहेज के लिए रखा गया पैसा लड़कियों के छात्रावास के निर्माण को दे दिया चाहिए। इस पर परिवार ने थोड़ी बातचीत के बाद सहमति दे दी। जिसके बाद किशोर सिंह कानोडद ने बेटी की इच्छा के अनुसार बच्चियों के हॉस्टल के लिए 75 लाख रुपए दे दिए। एनएच 68 पर ये छात्रावास बनेगा।


अंजलि की इस पहल का उसके ससुराल के लोगों ने भी स्वागत किया है। बताया गया है कि अंजलि ने शादी की रस्में पूरी होने के बाद महंत प्रताप पुरी से संपर्क किया और दहेज के रुपए को लेकर अपनी ख्वाहिश का इजहार किया। उन्होंने जब मौजूद मेहमानों को इसकी जानकारी दी तो सभी ने जोरदार तालियों ने घोषणा का स्वागत किया। अंजलि ने ससुराल के लोगों ने भी इस पर खुशी का इजहार किया।


अंजलि के इस फैसले की सोशल मीडिया पर खूब तारीफ हो रही है। बाड़मेर के रावत त्रिभुवन सिंह राठौर ने अखाबर में आई खबर को ट्विटर पर साझा किया है। जिसको कई लोगों ने रीट्वीट करते हुए अंजलि की तारीफ की है। कई लोगों ने कमेंट करते हुए लिखा है कि लड़कियों की शिक्षा के बारे में अंजलि का ये कदम सराहनीय है।

Related Articles

Back to top button