WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.15 PM
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.16 PM (1)
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.16 PM (2)
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.16 PM
WhatsApp Image 2024-01-08 at 6.55.17 PM (1)
IMG_20240301_142817
IMG_20240301_142817
IMG_20240301_142817
previous arrow
next arrow
उत्तरप्रदेश

मुगलों के गलत महिमामंडन को CBSC के पाठ्यक्रम में इतिहास से हटाया गया

इतिहास से मिट गए मुगल

-CBSE ने 2022-2023 का नया पाठ्यक्रम स्कूलों को भेज दिया है । क्लास- 12 के इतिहास और राजनीतिक विज्ञान के कोर्स से बोर्ड ने मुगल दरबारों के इतिहास का चैप्टर हटा दिया है । क्लास- 12 में एक चैप्टर था द मुगल कोर्ट-रीकंस्ट्रक्टिंग हिस्ट्रीज थ्रू क्रॉनिकल्स… इस चैप्टर को अब हटा दिया गया है । इस चैप्टर में मुगलों के सामाजिक, धार्मिक और सांस्कृतिक इतिहास के पुनर्निर्माण के लिए मुगल दरबारों के इतिहास की जानकारी दी गई थी… जो कि एक तरह से मुगलों का झूठा महिमामंडन था ।

-इसी तरह 11वीं क्लास में इतिहास की किताब से ‘सेंट्रल इस्लामिक लैंड्स’ का चैप्टर हटा दिया गया है… इस चैप्टर में बताया गया था कि कैसे अफ्रीका और एशिया महाद्वीप में इस्लामिक देशों का उदय हो गया । इस अध्याय में इस्लाम के जन्म और फिर खलीफा के उदय के बारे में बताया गया था । दरअसल जोर जबरदस्ती और जिहाद के युद्धों से मक्का-मदीना से चला इस्लाम अफ्रीका के देशों तक भी फैल गया था । अब किताब में इस्लाम की जोर जबरदस्ती और जिहाद के बारे में तो बताया नहीं जाता । इसलिए अच्छा यही है कि अगर सच नहीं बता सके तो कम से कम झूठ का चैप्टर ही बंद करो ।

-इसी तरह क्लास 10 में सामाजिक विज्ञान के पाठ्यक्रम में एक अध्याय है… राजनीति-सांप्रदायिकता और धर्मनिरपेक्षता… इस अध्याय में से पाकिस्तानी शायर फैज अहमद फैज की दो उर्दू नज्में हटा दी गई हैं । ये दो नज्में 10 साल से भी ज्यादा वक्त से पढाई जा रही थी । पहली नज्म है… इतनी मुलाकातों के बाद भी हम अजनबी रह जाते हैं और दूसरी नज्म है इतनी बारिशों के बाद भी खून के धब्बे रह जाते हैं । फैज अहम फैज की इन दोनों नज्मों को भारत में पढाए जाने की जरूरत नहीं थी… इसे हटाकर बोर्ड ने सही कदम उठाया है ।

  • आपको याद होगा कि फैज अहमद फैज की एक गजल पर पूरे देश में भयंकर विवाद उठा था । हम देंखेंगे… ये गजल फैज अहमद फैज ने लिखी थी… इस गजल में मूर्ति पूजा का विरोध था । जब इस गजल का विरोध किया गया तो जिहादी और कम्युनिस्टों की बेचैनी बहुत बढ़ गई थी । आखिरकार अब फैज का भी नाम पाठ्यक्रम से हटा दिया गया । जो अच्छा फैसला है ।

-मुगलों के साथ साथ नेहरू पर भी गाज गिरी है… कई पाठ्यक्रमों में नेहरू के गुटनिर्पेक्ष आंदोलन को भी हटा दिया गया है ।

-और महत्वपूर्ण बात ये भी है कि मुगलों के चैप्टर हटाने से बात नहीं बनेगी …. आप बच्चों को ये बताइए कि कैसे हिंदुओं पर अत्याचार करके मुगलों ने धर्मांतरण का अभियान चलाया । कैसे हिंदुओं के मुंह में गोमांस ठूंसा गया, कैसे हिंदुओं के जनेऊ उतरवाए गए ? कैसे शरीयत और इस्लाम पर चलते हुए काफिर स्त्रियों का यौन दासियां बनाया गया । अगर आप ये सब बताएंगे तो आज के मुसलमानों को ये पता लगेगा कि उनके पूर्वजों के साथ आक्रमणकारियों ने कितना बुरा सलूक किया और इस तरह घरवापसी का रास्ता साफ हो जाएगा ।

Related Articles

Back to top button